पेट फूलना, पेट में गैस बनना या पेट में अफारा का इलाज और आयुर्वेदिक दवा

पेट फूलना, पेट में गैस बनना या पेट में अफारा का इलाज और आयुर्वेदिक दवा

पेट में गैस बनना यानी पेट फूलने से अफारा की बीमारी होती है। पेट में अफारा की दवा जानने से पहले हम ये जान लेते हैं की अफारा की समस्या होती क्यों है? अफारा पेट फूलने की बीमारी होती है।

पेट में गैस बनना, पेट फूलना, पेट फूलना का इलाज, खाना खाने के बाद पेट में गैस बनना, पेट में गैस बनना घरेलू उपाय, पेट में गैस के लक्षण, पेट में आफरा का इलाज, पेट में गैस बनना घरेलू उपाय,
पेट फूलना, पेट में गैस बनना या पेट में अफारा का इलाज और आयुर्वेदिक दवा

अफारा की समस्या क्यों होती है? – Why is Flatulence Problem

अफारा (पेट फूलना) यानी पेट में गैस होने वाला एक सामान्य रोग है। इस रोग में व्यक्ति के पेट में गैस बनना और पेट फूलने की समस्या कब्ज के कारण होती है। कब्ज के कारण जब मल आँतों में जमा हो जाता है तो मल के सड़ने से दूषित वायु उत्पन्न होती है। इस रोग में व्यक्ति के पेट में गैस बनती है जिसका मुख्य कारण अनियमित खान-पान होता है। चिकित्सकों के अनुसार अधिक मात्रा में भोजन करने, बाजार में अधिक तेल-मिर्च, गर्म मसालों का सेवन करने से पाचन क्रिया की समस्या के साथ अफारा की उत्पत्ति होती है।

अफारा में वायु एकत्र होने से पेट में शूल तो होता ही है, साथ ही रोगी का जी मिचलाने लगता है। ऐसे में रोगी को श्वास लेने में कष्ट होता है। रोगी को बहुत घबराहट होती है।छाती में तीव्र जलन होती है। दूषित वायु जब ऊपर की ओर चढ़ती है तो सिर में दर्द होने लगता है। रोगी को चक्कर आते हैं। जब तक रोगी को डकार नहीं आती या मलद्वार से वायु निष्कासित नहीं होती, रोगी की बेचैनी और पेट में दर्द होता रहता है।

बंद गोभी, कचालू, अरबी, भिंडी और शीतल वायु कारक खाद्य पदार्थों का सेवन करने से पेट में वायु बनने से अफारे की समस्या अधिक होती है।

पेट में अफारा का इलाज या पेट में गैस बनना घरेलू उपाय

  • कब्ज की समस्या के कारण अधिक अफारा की उत्पत्ति होती है। ऐसी स्थिति में सोंठ का चूर्ण 3 ग्राम और एरंड का तेल 8 ग्राम मात्रा में सेवन कराने और दूध पिलाने से कब्ज नष्ट होने से अफारा का निवारण होता है।
  • पोदीने के 5 ग्राम रस में थोड़ा-सा सेंधा नमक मिलाकर सेवन कराने से अफारा की समस्या नष्ट होती है।
  • कुलंजन का चूर्ण 2 ग्राम, गुड़ (10 ग्राम) के साथ खाकर पानी पीने से अफारा वायु (गैस) निष्कासित होने से शांत होता है।
  • अदरक 3 ग्राम, थोड़ा-सा पीसकर 10 ग्राम गुड़ के साथ सेवन करने से अफारा नष्ट होता है।
  • 25 ग्राम सौंफ को 500 ग्राम पानी में उबालकर क्वाथ बनाएं। 100 ग्राम शेष रह जाने पर सेंधा नमक व काला नमक 2-2 ग्राम मिलाकर, क्वाथ को छानकर पीने से अफारा की समस्या नष्ट होती है।
  • जायफल का चूर्ण, सोंठ का चूर्ण और जीरे का चूर्ण मिलाकर रखें। 3 ग्राम चूर्ण भोजन से पहले पानी के साथ सेवन करने से अफारा की उत्पत्ति नहीं होती है।

अफारा के इलाज के आयुर्वेदिक नुस्खे

  • बैंगन की सब्जी में ताजे लहसुन और हींग का छौंक लगाकर खाने से अफारा की समस्या नहीं होती है।
  • पिप्पली का चूर्ण 3 ग्राम, सेंधा नमक 1 ग्राम मिलाकर 150 ग्राम तक्र (मट्टे) के साथ पीने से पेट की वायु निष्कासित होने से अफारा नष्ट होता है।
  • छोटी इलायची का चूर्ण 2 ग्राम, भुनी हींग आधा ग्राम नीबू का रस 5 ग्राम के साथ मिलाकर खिलाने से वायु का निष्कासन होता है।
  • अंगूर का रस 50 ग्राम में 5 ग्राम मिश्री और 2 ग्राम यवक्षार मिलाकर सेवन करने से अफारा नष्ट होता है।
  • पोदीने का रस 50 ग्राम, नीबू का रस 10 ग्राम और 100 ग्राम पानी मिलाकर पीने से वाय का निष्कासन होने से अफारा नष्ट होता है।
  • 3 लौंग 200 ग्राम पानी में उबालकर, छानकर पानी पीने से अफारा नष्ट होता है।

पेट का फूलना या पेट में अफारा के इलाज का घरेलू उपाय

  • हींग को पानी में घोलकर नाभि के आस-पास लेप करने और गर्म पानी की थैली या बोतल रखने से वायु का निष्कासन होने से अफारा नष्ट होता है।
  • 200 ग्राम तक्र (मट्ठे) में 2 ग्राम अजवायन का चूर्ण और 1 ग्राम काला नमक पिसा हुआ मिलाकर पीने से अफारा नष्ट होता है।
  • नीबू के रस को 10 ग्राम मात्रा में 200 ग्राम पानी में थोड़ा-सा सेंधा नमक मिलाकर धीरे-धीरे पीने से पेट वायु का निष्कासन होता है।

कब्ज की चिकित्सा में विलंब और खाने-पीने में लापरवाही होने से पेट में दूषित वायु एकत्र होने से अफारा की उत्पत्ति होती है। अफारा में पेट में वायु एकत्र होने से पेट फूलने लगता है। रोगी पेट शूल से बेचैन हो उठता है। अफारा छोटे-बड़े किसी व्यक्ति को भी हो सकता है।

अफारा में पेट दर्द पर छोटी से बातचीत

उस दिन दोपहर को दादी मां के पास-पड़ोस के फ्लैट में रहने वाली किशोर लड़की अंजलि आई। उसने पीडायुक्त स्वर में दादी मां से कहा—‘दादी मां! सुबह से पेट में दर्द हो रहा है। पेट फुल रहा है। ऐसा लगता है कि पेट में गैस भर रही है।

दादी मां ने अंजलि के पेट को दबाकर देखा । पेट में गड़गड़ की ध्वनि हो रही थी।

दादी मां ने कहा—’तुम्हारे पेट में अफारा हो रहा है। मैं अभी तुम्हें जड़ी-बूटियों का चूर्ण बनाकर देती हूं। इस चूर्ण को हल्के गर्म पानी से सेवन करने से 15-20 मिनट में अफारा नष्ट हो जाएगा।

दादी मां ने अंजलि को चूर्ण बनाकर दिया। उसे खाने के बाद अंजलि का अफारा नष्ट हो गया।

25-30 मिनट के बाद अंजलि ने हंसते हुए दादी मां को अफारा नष्ट हो जाने के बारे में बताया।

अंजलि ने दादी मां से पूछा-‘दादी मां! आप मुझे यह बताएं कि अफारा क्यों होता है? मैं भविष्य में इन बातों का ध्यान रखेंगी।

हमारे प्यारे पाठकों, हम आशा करते हैं कि आपको “पेट खराब की आयुर्वेदिक दवा” पेट फूलना, पेट में गैस बनना या पेट में अफारा का इलाज लेख पसंद आया होगा और आपके लिए उपयोगी भी होगा। अगर आपको हमारा happy health india लेख “पेट में अफारा का इलाज” पसंद आया हो, तो इसे अपने जरूरतमंद परिवार के सदस्यों और दोस्तों के साथ साझा करें।

Leave a Comment