विटामिन डी से भरपूर स्रोत वाले फल, फूड्स और सब्जियां

Best Source Of Vitamin D Foods In Hindi

Vitamin D Foods In Hindi: ज्यादातर लोग सिर्फ इतना जानते हैं कि विटामिन डी सिर्फ शरीर की हड्डियों को मजबूत करता है, लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है। विटामिन डी हड्डियों को मजबूत करने के साथ-साथ हमारे इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने का भी काम करता है। इसके साथ ही विटामिन डी और अन्य सभी विटामिनों को भी सक्रिय करता है। इस प्रकार विटामिन डी शरीर के लिए बहुत उपयोगी है।

vitamin d foods in hindi, विटामिन डी के आहार, विटामिन डी फ्रूट्स नाम, विटामिन डी के स्रोत, विटामिन डी फूड्स, विटामिन डी किसमें पाया जाता है, विटामिन डी की आयुर्वेदिक दवा,
Best Source Of Vitamin D Foods In Hindi

अगर शरीर में विटामिन डी की कमी हो जाती है तो हड्डियां मुलायम और कमजोर हो जाती हैं और आसानी से टूट जाती हैं। विटामिन डी की कमी से बोन कैंसर समेत कई बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। विटामिन डी की कमी से शरीर की सारी ऊर्जा धीरे-धीरे खत्म होने लगती है। 

हम आपको विटामिन डी से भरपूर कुछ फलों और सब्जियों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनसे आपको विटामिन डी की कमी से निजात मिल जाएगी। अगर आप बचपन से इन फलों और सब्जियों का सेवन करते हैं तो आपके शरीर में कभी भी विटामिन डी की कमी नहीं होगी।

विटामिन डी युक्त फल और सब्जिया (Vitamin D Fruits And Vegetables List in Hindi)

विटामिन डी शरीर द्वारा कैल्शियम के अवशोषण, हड्डियों के विकास के लिए, प्रतिरक्षा कार्यप्रणाली और सूजन को कम करने के लिए एक आवश्यक विटामिन माना जाता है। वैसे तो आपके शरीर में विटामिन डी का उत्पादन तब होता है जब आपकी त्वचा सूर्य की किरणें की संपर्क में आती हैं।

Top 10 Vitamin D Rich Foods, Fruits And Vegetables

Vitamin D Foods In Hindi: विटामिन डी फूड्स, फल और सब्जियां जैस की टूना, हिलसा और सालमन प्रजाति की मछलियों, अंडे की जर्दी, संतरे का रस, मशरूम, कॉड लिवर ऑयल, डेयरी प्रोडक्ट। आइए जानते है विटामिन डी के स्रोत और विटामिन डी से भरपूर फूड्स, फल और सब्जियों के बारे में।

1. मछली – Fish

अगर आप नॉनवेज खाते हैं तो मछली विटामिन डी की कमी को पूरा करने का सबसे अच्छा माध्यम है। मछली में विटामिन डी अधिक मात्रा में पाया जाता है, इसलिए यह शरीर में विटामिन डी की कमी को पूरा करता है। 

अगर आपको दिल की समस्या है तो आपको मछली का सेवन करना चाहिए। मछली में फैटी एसिड अधिक मात्रा में पाया जाता है, जो दिल के लिए बहुत फायदेमंद होता है। 

टूना, हिलसा और सालमन प्रजाति की मछलियों में विटामिन डी अधिक मात्रा में पाया जाता है। इसीलिए मछली को सबसे अच्छा विटामिन डी के आहार माना जाता है।

2. अंडे की जर्दी – Egg Yolks

अगर आप कम समय में विटामिन डी की कमी को दूर करना चाहते हैं तो रोज सुबह नाश्ते में अंडा जरूर खाएं। अंडे के पीले भाग में विटामिन डी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जो विटामिन डी की कमी को कम समय में पूरा करता है।

3. अनाज – Grain

जो लोग नॉनवेज नहीं खाते हैं, वे अपने आहार में साबुत अनाज को शामिल करके शरीर से विटामिन डी की कमी को पूरा कर सकते हैं। 

विटामिन डी की आपूर्ति के लिए आपको अपने आहार में दलिया, चावल और गेहूं को अवश्य शामिल करना चाहिए।

4. फोर्टिफाइड फूड्स – Fortified Foods

दूध, दही, ब्रेड, सोया मिल्क और पनीर विटामिन डी युक्त फोर्टिफाइड फूड हैं। इन खाद्य पदार्थों को अपने दैनिक आहार में शामिल करके आप अपने शरीर से विटामिन डी की कमी को पूरा कर सकते हैं। ये फूड्स दुकानों में आसानी से मिल जाते हैं।

Also Read: विटामिन डी की कमी के कारण रोग, फायदे, आहार और उपचार

5. संतरे का रस – Orange Juice

संतरा विटामिन डी का अच्छा स्रोत पाया जाता है इसलिए विटामिन डी की पूर्ति के लिए रोज सुबह और शाम एक गिलास संतरे का जूस पिएं। Vitamin D Rich Fruits: संतरे का रस विटामिन डी से भरपूर फल माना जाता है।

6. कॉड लिवर ऑयल – Cod Liver Oil

कॉड लिवर ऑयल में विटामिन डी की मात्रा अधिक होती है, इसीलिए इसके रोजाना इस्तेमाल से शरीर से विटामिन डी की कमी बहुत ही जल्द दूर हो जाती है। कॉड लिवर ऑयल सबसे अच्छा विटामिन डी के आहार है।

7. मशरूम – Mushrooms

मशरूम विटामिन डी के साथ-साथ विटामिन बी5 से भरपूर मात्रा में होता है, इसलिए अगर आप विटामिन डी की कमी को दूर करना चाहते हैं तो मशरूम को अपनी डाइट में जरूर शामिल करें। मशरूम को हल्का पका कर खाना ज्यादा फायदेमंद रहता है। इसीलिए विटामिन डी के आहार में मशरूम जरूर शामिल करे।

8. ऑइस्टर – Oyster

ऑइस्टर में विटामिन डी के अलावा कई ऐसे पोषक तत्व मौजूद होते हैं। जो आपकी सेहत के लिए बहुत उपयोगी होते हैं इसलिए आपको ऑइस्टर को अपनी डाइट में जरूर शामिल करना चाहिए।

9. गाजर – Carrot

गाजर में विटामिन डी का अच्छा स्रोत पाया जाता है। अगर आपके शरीर में विटामिन डी की कमी है, या आप चाहते हैं कि आपके शरीर में कभी भी विटामिन डी की कमी न हो तो गाजर का सेवन रोजाना जरूर करें। 

गाजर खाने से शरीर में विटामिन डी की कमी दूर होती है, इसके साथ साथ शरीर में खून भी बढ़ता है। गाजर को कच्चा खाना या उसका जूस पीना ज्यादा फायदेमंद होता है।

10. डेयरी प्रोडक्ट – Dairy Products

अगर आप शाकाहारी है तो विटामिन डी के आहार में डेयरी प्रोडक्ट जैसे पनीर, दही, मक्खन आदि डेयरी उत्पादों में आते हैं। इन डेयरी उत्पादों में उच्च मात्रा में विटामिन डी और कैल्शियम होता है। 

इन डेयरी उत्पादों को रोजाना आहार में शामिल करने से विटामिन डी के साथ साथ कैल्शियम की कमी को भी दूर करता है।

Also Read: Best Food Sources for Vitamins and Minerals in Hindi

विटामिन डी कैप्सूल्स नाम – Top 10 Best Vitamin D Tablets In India

आजकल बाजार में विटामिन डी की गोली भी उपलब्ध है। विटामिन डी की कमी को पूरा करने के लिए आप इन गोलियों का उपयोग कर सकते हैं।

  • हिमालयन ऑर्गेनिक्स विटामिन डी3 टैबलेट – Himalayan Organics Vitamin D3 Tablets.
  • यूसी विटामिन डी सी चबाने योग्य गोलियों के साथ – Eucee Vitamin D With C Chewable Tablets.
  • वैंडेले लैब्स च्यूएबल विटामिन डी3 टैबलेट – Vandelay Labs Chewable Vitamin D3 Tablets.
  • कार्बामाइड फोर्ट कैल्शियम की गोलियां – Carbamide Forte Calcium Tablets.
  • हेल्थऑक्साइड कैल्शियम की गोलियां – HealthOxide Calcium Tablets.
  • Naturyz कैल्शियम प्लस टैबलेट – Naturyz Calcium Plus Tablets.
  • आयुर्वेद ऑर्गेनिक्स विटामिन डी टैबलेट – Ayurveda Organics Vitamin D Tablets.
  • NUTRABOX कैल्शियम और विटामिन डी की गोलियां – NUTRABOX Calcium and Vitamin D Tablets.
  • स्विस अल्टीबूस्ट विटामिन डी3 टैबलेट – Swisse Ultiboost Vitamin D3 Tablets.
  • INLIFE कैल्शियम की गोलियां – INLIFE Calcium Tablets.

ध्यान रखें कि आपके शरीर में विटामिन डी की कितनी मात्रा की कमी है, इस आधार पर गोलियां लेनी चाहिए, इसलिए डॉक्टर की सलाह के बिना इन गोलियों का सेवन कभी न करें।

हमने आपको इस आर्टिकल में विटामिन डी के स्रोत और विटामिन डी से भरपूर फूड्स, फल और सब्जियों के बारे में जानकारी दी – Vitamin D Foods In Hindi। आपको हमारी यह जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट करके जरूर बताएं।

Disclaimer: All information is good but you should do it only after consulting your doctor. Otherwise use them with your own responsibility.

Leave a Comment